325000 से अधिक लोग कर रहे हैं “जनऔषधि सुगम” मोबाइल ऐप का उपयोग…जनऔषधि केन्द्रों तक पहुँचने के लिए ली जा रही है इससे मदद

                                                                                         

             केंद्र सरकार द्वारा आज जारी की गयी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार कोविड – 19 संकट के कारण राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के दौरान जनऔषधि सुगम मोबाइल ऐप, लोगों को अपने नजदीकी प्रधानमंत्री जनऔषधि केंद्र (पीएमजेएके) का पता लगाने और किफायती जेनेरिक दवा प्राप्त करने में बहुत मदद कर रहा है।

             325000 से अधिक लोग जनऔषधि सुगम मोबाइल ऐप का उपयोग कर रहे हैं। डिजिटल तकनीक का उपयोग करके लोगों के जीवन को आसान बनाने के लिए रसायन और उर्वरक मंत्रालय के फार्मास्युटिकल विभाग के अंतर्गत भारत फार्मा पीएसयू ब्यूरो (बीपीपीआई) द्वारा प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि योजना (पीएमबीजेपी) के लिए इस मोबाइल एप्लिकेशन को विकसित किया गया है। इसका उद्देश्य लोगों को डिजिटल प्लेटफार्म के तहत सुविधाएँ प्रदान करना है। लोग अपने मोबाइल फ़ोन के माध्यम से उपयोगकर्ता-अनुकूल विकल्पों का लाभ उठा सकते हैं। इन विकल्पों में शामिल हैं – नज़दीकी जनऔषधि केंद्र का पता लगाना, गूगल मैप के जरिये नज़दीकी जनऔषधि केंद्र तक पहुँचने के मार्ग का पता लगाना, जनऔषधि जेनेरिक दवाओं की जानकारी प्राप्त करना, एमआरपी के आधार पर जेनेरिक और ब्रांडेड दवाओं की तुलना करना, अपनी बचत का हिसाब लगाना आदि।
जनऔषधि सुगम मोबाइल ऐप एंड्राइड और आई – फ़ोन दोनों ही प्लेटफॉर्म पर गूगल प्ले स्टोर और एप्पल स्टोर से निःशुल्क डाउनलोड कर सकते हैं।
            भारत के कोविड – 19 के खिलाफ लड़ाई में, भारत सरकार पीएमबीजेपी जैसी उल्लेखनीय योजनाओं के माध्यम से स्वास्थ्य प्रणाली में क्रांतिकारी बदलाव ला रही है। जनऔषधि केन्द्रों पर 900 से अधिक गुणवत्तापूर्ण जेनेरिक दवाएं और 154 सर्जिकल उपकरण देश के प्रत्येक नागरिक के लिए किफायती कीमत पर उपलब्ध हैं।
            वर्तमान में, देश के 726 जिलों को कवर करते हुए 6300 से अधिक जनऔषधि केंद्र (पीएमजेएके) कार्य कर रहे हैं। लॉकडाउन अवधि में पीएमबीजेपी अपने सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर सूचनात्मक पोस्ट के माध्यम से जागरूकता फैला रहा है ताकि लोगों को कोरोना वायरस से बचाव में मदद मिल सके।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *