पिछले चार दिनों में देश में कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ी… स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने जारी की नयी गाइड लाइन

पिछले चार दिनों में देश में कोरोना के मरीजों की संख्या में तेजी से हुयी बढ़ोतरी को देखते हुए केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने आज नयी गाइड लाइन जारी की हैं.पूरे विश्व में कोरोना वायरस के कारण लगातार होने वाली मौतों के अनुपात में भारत सरकार इस महामारी को रोकने में अभी तक तो कामयाब रही है मगर पिछले दिनों हुए घटनाक्रम से अब देश में संक्रमित मरीजों की संख्या में तेजी आने से चिंतित सरकार  के केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने आज नयी गाइड लाइन जारी की हैं.सरकार का मानना है कि आने वाले समय में अस्पतालों में  मध्यम और गंभीर रूप  के मरीजों को संसाधनों की कमी के कारण किसी प्रकार भी इलाज में कोताही ना हो इसलिए COVID-19 के सभी संदिग्ध और पुष्ट मामलों को अलग करना बड़ी जरूरत हो चुकी है।हालांकि, जैसे-जैसे मामलों की संख्या बढ़ती है, सिस्टम को उचित रूप से तैयार करना महत्वपूर्ण होगा.
इस सन्दर्भ में सरकार ने कोविड समर्पित सुविधाओं को तीन भागों में बाँट दिया है….

1.कोविड केयर सेण्टर (CCC). COVID केयर सेंटर केवल उन मामलों की देखभाल करेगा जो चिकित्सकीय रूप से हल्के या फिर संदिग्ध अवस्था में हों. बुखार, इन्फ्लुएंजा या सांस लेने में कठिनाई,सामान्य सर्दी जुकाम जैसीआम परेशानी वाले मरीजों को CCC में भर्ती किया जाएगा.सार्वजनिक और निजी दोनों प्रकार के छात्रावास, होटल,
स्कूल, स्टेडियम, लॉज आदि इसमें उपयोग में लाये जा सकेंगे

इनमे लिए वर्त्तमान में काम कर रही CHC को जो गर्भवती महिलाओं, नवजात शिशुओं आदि की देखभाल करती हैं कोअंतिम विकल्प के रूप में उपयोग किया जाय .जिन में संदिग्ध और संक्रमित  घोषित व्यक्ति को भर्ती भी करना पड़े तो उनके लिए आने और जाने के अलग रास्ते बनाये जाएँ और किसी भी हालत में उन्हें आपस में न मिलने दिया जाय और यथासंभव प्रत्येक को अलग अलग कमरे में रखा जाय.इन केंद्रों पर आयुष डॉक्टर को भी नियुक्त किया जा सकता है जो एलोपथिक डॉक्टर्स की देखरेख में काम करें. इन केंद्रों पर पूरे लाइफ सपोर्ट वाली एम्बुलेंस जिनमे ऑक्सीजन उपलब्ध रहे 24×7 मौजूद रखी जाएँ .

2. डेडिकेटेड कोविड हेल्थ सेण्टर (DCHC)..मध्यम श्रेणी के संदिग्ध और संक्रमित  मरीजों के लिए इन सेण्टर का उपयोग किया जाएगा .किसी भी हालत में उन्हें आपस में न मिलने दिया जाय.  इनके लिए कोई अस्पताल या अस्पताल का ब्लॉक होगा जिसमे यथासंभव आने और जाने के अलग रास्ते हों.  इनमे प्राइवेट अस्पताल भी लिए जा सकते हैं.  हर सेण्टर में ऑक्सीजन सहित बेसिक लाइफ सपोर्ट एम्बुलेंस 24X7 मौजूद रखी जाएँ .

3.डेडिकेटेड कोविड हॉस्पिटल (DCH)..इन केंद्रों पर गंभीर रूप से बीमार मरीजों के इलाज की व्यवस्था होगी,प्राइवेट हॉस्पिटल सहित कोई भी हॉस्पिटल या उस हॉस्पिटल का एक ब्लॉक इसके लिए उपयोग किया जा सकता है इन हॉस्पिटल में ICU,Ventilators उपलब्ध रहेंगे. DCH,CCCaur DCHC के लिए रेफरल का काम भी करेंगे .

 

 

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *